Sunday, January 23, 2022
Home अंतर्राष्ट्रीय 2025 तक बंद हो जाएंगे बेल्जियम के परमाणु संयंत्र

2025 तक बंद हो जाएंगे बेल्जियम के परमाणु संयंत्र

ब्रसेल्स: बेल्जियम की सरकार ने फैसला किया है कि 2025 तक देश के सभी सातों परमाणु रिएक्टर बंद कर दिए जाएंगे। हालांकि देश पूरी तरह से परमाणु ऊर्जा को अलविदा नहीं कहेगा, आधुनिक परमाणु टेक्नोलॉजी पर काम चलता रहेगा। इस विषय पर बेल्जियम की गठबंधन सरकार के सदस्य दलों में पूरी रात चली बातचीत के बाद सहमति बनी, समझौते के अनुसार छोटे मॉड्यूलर रिएक्टरों पर करीब 10 करोड़ यूरो का निवेश भी किया जाएगा। देश में 2003 में ही एक कानून बना दिया गया था जिसके तहत परमाणु ऊर्जा को धीरे धीरे पूरी तरह से बंद करना अनिवार्य है।

इसकी अंतिम तिथि साल 2025 है। अक्टूबर 2020 में जब मौजूदा सात पार्टियों की मिली जुली सरकार का कार्यकाल शुरू हुआ था तब भी सरकार ने इस लक्ष्य को हासिल करने का वादा किया था। परमाणु ऊर्जा को पूरी तरह से ना नहीं लेकिन इस मुद्दे पर अभी तक गठबंधन में सहमति नहीं बन पाई थी। फ्लेमिश मूल के ग्रीन पार्टी के ऊर्जा मंत्री टिन वान डर स्ट्रैटेन ने पूरी तरह से परमाणु ऊर्जा का दामान छोड़ देने का सुझाव दिया था लेकिन फ्रांसीसी भाषा बोलने वाली लिबरल एमआर पार्टी के सदस्यों ने उनका समर्थन नहीं किया। एमआर पार्टी का कहना था कि बेल्जियम की परमाणु क्षमता में से कुछ को बाकी रखना चाहिए क्योंकि ऊर्जा की सप्लाई सुनिश्चित रखने के लिए गैस से चलने वाले जिन संयंत्रों की योजना बनाई गई है उनसे बहुत प्रदूषण होगा। सरकारी मीडिया आरटीबीएफ के अनुसार अक्षय और कार्बन-तटस्थ ऊर्जाओं में निवेश करने पर सहमति बनी है।

इनमें नई पीढ़ी की परमाणु ऊर्जा भी शामिल है। सरकार के एक सूत्र ने बताया कि इस टेक्नोलॉजी में निवेश करने का बजट तैयार भी कर लिया गया है। यूरोपीय संघ में भी सहमति का इंतजार बेल्जियम में दो परमाणु संयंत्र हैं जिनमें कुल सात रिऐक्टर हैं, इन्हें फ्रांस की कंपनी एनजी चलाती है। नए समझौते के बाद बेल्जियम की सरकार को अभी भी यह सोचना बाकी है कि ऊर्जा की सप्लाई में जो कमी आएगी उसे कैसे पूरा किया जाएगा? हो सकता है इस पर फैसला मार्च से पहले ना आए।

परमाणु ऊर्जा को लेकर यूरोपीय संघ के बाकी सदस्य देशों में भी मत विभाजन है। परमाणु और प्राकृतिक गैस को निवेश के योग्य ऊर्जा के सस्टेनेबल स्रोतों की संघ की सूची में शामिल किया जाए या नहीं, इसे लेकर संघ में गहन चर्चा चल रही है। यूरोपीय संघ की टैक्सोनौमी कही जाने वाली इस सूची का उद्देश्य पर्यावरण के अनुकूल स्रोतों का प्रोत्साहन करना और एक कार्बन तटस्थ भविष्य की तरफ बदलाव को आसान करना है। आंतरिक बाजार आयुक्त थिएरी ब्रेटन ने सोमवार 20 दिसंबर को कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि जनवरी में जब यह सूची पेश की जाएगी तब इसमें परमाणु ऊर्जा और प्राकृतिक गैस भी शामिल होंगे। लेकिन आलोचकों का कहना है कि परमाणु ऊर्जा जलवायु अनुकूल नहीं है और उसे धीरे धीरे अलविदा कहते हुए दूसरे स्रोतों का इस्तेमाल करना चाहिए।

RELATED ARTICLES

कश्मीरी पंडितो को याद कर बोली मिलबेन – दुनिया भर में धार्मिक उत्पीड़न जारी है

अमेरिका: 1990 में कश्मीरी पंडितों का पलायन सबसे बड़ा दुःख देने वाला था। अपने घरो को छोड़ने और अपने धर्म को परिवर्तन करने वाली...

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कि अपनी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस कि तरिफ़, कहा वो हमेशा मेरी साथी रहेगी

अमेरिका: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कि अपनी मौजूदा उपराष्ट्रपति कमला हैरिस कि तरिफ़। उन्होने कहा कि अगर 2024 के चुनाव में वो दोबारा...

खतरा! नहीं सुधरा चीन पैंगोंग त्सो झील के पास बना रहा पुल

चीन: लद्दाख सीमा पर हुए विवाद के बाद भी चीन सुधरने की नाम नही ले रहा। चीन ने पूर्वी लद्दाख में अपनी निर्माण गतिविधियां...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

दलित, महिला और संविधान विरोधी है भाजपा : राजेश लिलोठिया

हल्द्वानी: कांग्रेस कमेटी अनुसूचित प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश लिलोठिया ने भाजपा की केंद्र और उत्तराखंड सरकार पर दलित, महिला और संविधान विरोधी होने...

टिहरी शीतलहर की चपेट में बर्फबारी से राजमार्ग 707 ए जगह-जगह पर बंद

नई टिहरी: दूसरे दिन भी रिमझिम बारिश से जनपद टिहरी गढ़वाल में शीतलहर जारी रही। धनोल्टी, काणाताल व सुरकंडा मंदिर क्षेत्र में जमकर बर्फबारी...

महावीर रांगड ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनावी तैयारियां शुरू

नई टिहरी: विधानसभा धनोल्टी से भाजपा का टिकट न मिलने से खफा महावीर रांगड ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनावी तैयारियां शुरू कर...

उत्तराखंड में दीपक बिजल्वाण बने 70 विधानसभाओं में सबसे युवा प्रत्याशी, जानिए छात्रसंघ अध्यक्ष से यहां तक का सफर

उत्तरकाशी: दीपक बिजल्वाण का राजनीतिक सफर छात्र राजनीति से शुरू हुआ। दीपक बिजल्वाण सबसे पहले पुरोला महाविद्यालय में छात्र संघ चुनाव में कूदे। वहां...

Recent Comments