47 वीं बैठक में खाद्य पदार्थों पर जीएसटी लगाने के फैसले से आम आदमी की कमर ही टूट गयी है

47 वीं बैठक में खाद्य पदार्थों पर जीएसटी लगाने के फैसले से आम आदमी की कमर ही टूट गयी है

नई दिल्ली: बीते दिन से देश में कई चीजों के दाम बढ़ गए हैं। इसे बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक लिस्ट शेयर करते हुए कहा कि लिस्ट में मौजूद 14 चीजों को यदि खुला बेचा जाएगा, अर्थात बिना पैकिंग के बेचा जाएगा तो उन पर जीएसटी की कोई भी दर लागू नहीं होगी। इस लिस्ट में दाल, गेहूं, बाजरा, चावल, सूजी और दही/लस्सी जैसी रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाली महत्वपूर्ण चीजें शामिल हैं अनाज, चावल, आटा और दही जैसी चीजों पर 5 फीसदी त्रस्ञ्ज के सरकार के फैसले का बचाव करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि यह जीएसटी केवल उन्हीं उत्पादों पर लागू है जो प्री-पैक्ड और लेबल्ड हैं। बता दें कि पिछले महीने जीएसटी परिषद की 47वीं चंडीगढ़ में हुई बैठक में ये फैसले लिए गए थे।

जीएसटी को लेकर फैली ये गलतफहमियां

निर्मला सीतारमण ने आगे बताया कि, ‘हाल ही में, जीएसटी परिषद ने अपनी 47 वीं बैठक में दाल, अनाज, आटा जैसे विशिष्ट खाद्य पदार्थों पर जीएसटी लगाने के फैसले पर पुनर्विचार करने की सिफारिश की है। हालांकि काफी गलतफहमियां फैली है, यहां तथ्यों को सामने लाने की कोशिश है।’ क्या यह पहली बार है जब इस तरह के खाद्य पदार्थों पर कर लगाया जा रहा है? नहीं, राज्य सरकारें जीएसटी से पहले की व्यवस्था में खाद्यान्न से काफी राजस्व एकत्र कर रहे थे। 5% जीएसटी सिर्फ पैकेट वाले सामानों पर ही लगेगी, खुले वाली चीजों पर नहीं। अगर आपका पैकेट 25 किलोग्राम से ऊपर का है तो भी वह 5% जीएसटी के दायरे में नहीं आता है, उसपर कोई टैक्स नहीं लगेगा।

News Glint

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *