अमेरिकी रिपोर्ट- “रूस हमले से पहले अपनी सप्लाई चेन को भी मजबूत कर रहा है।”

अमेरिकी रिपोर्ट- “रूस हमले से पहले अपनी सप्लाई चेन को भी मजबूत कर रहा है।”

यूक्रेन और रूस के बीच तनातनी ने दुनिया को संकट में डाल दिया है। यूरोप में हालात बिगड़ने की कगार पर हैं। किसी भी तरफ से हमला होते ही हालात विश्व युद्ध जैसे बन जाएंगे। वहीं दूसरी तरफ रूस भले ही बार-बार हमले की आशंका से इंकार कर रहा हो, लेकिन उसकी तैयारी भीषण युद्ध जैसी ही है। अमेरिका की खुफया रिपोर्ट के मुताबिक, रूस ने यूक्रेन की सीमा पर एक लाख 30 हजार सैनिकों को तैनात कर दिया है। यूक्रेन की घेराबंदी के लिए मिसाइल, एयर फोर्स, नेवी भी तैयार हो गई हैं। रूस के काला सागर में छह जंगी जहाजों को भी उतार दिया गया है। वहीं यूक्रेन के सीमावर्ती देश बेलारूस में रसियन सैनिकों को युद्धाभ्यास के लिए भेजा गया है। अमेरिकी रिपोर्ट के मुताबिक, रूस हमले से पहले अपनी सप्लाई चेन को भी मजबूत कर रहा है।

अमेरिका को पता चल गई हमले की तारीख?

एक तरफ दुनिया की तमाम एजेंसी यह पता लगाने की कोशिश कर रही हैं कि रूस, यूक्रेन पर हमला कब करेगा। वहीं दूसरी तरफ एक अमेरिकी अधिकारी ने खुफिया जानकारियों के विश्लेषण के आधार पर बताया है कि रूस 16 फरवरी को अपने पहले टारगेट को हिट कर सकता है। हालांकि, यह अधिकारी अमेरिकी प्रशासन की ओर से बयान देने के लिए अधिकृत नहीं है। इससे पहले अमेरिका ने पहले ही संकेत दिए थे कि रूस विंटर ओलंपिक से पहले हमला कर सकता है।

बाइडन ने दी थी पुतिन को चेतावनी

उधर, रविवार को बाइडन और पुतिन के बीच करीब एक घंटे की टेलीफोनिक बातचीत हुई थी। इसी दौरान बाइडन ने सीधे तौर पर चेतावनी दी थी कि, अगर रूस यूक्रेन पर हमला करता है तो अमेरिका अपने सहयोगी देशों के साथ मिलकर इसका जवाब देगा। यह हमला बहुत ही तेज होगा।

कई देशों ने खत्म किया राजनयिक मिशन

यूक्रेन में हमले की आशंका से पहले ही कई देशों ने वहां पर अपना राजनयिक मिशन समाप्त कर दिया है। यहां तक कि, कई देशों ने अपने नागरिकों से तुरंत युक्रेन छोड़ने की अपील की तक कर दी है।

Admin

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.