टीका लगवाने के दो दिन बाद कर सकते हैं रक्तदान, कोरोना संक्रमित हो गए हैं तो 3 सप्ताह करें इंतजार, टीका पूरी तरह से सुरक्षित और भरोसेमंद

टीका लगवाने के दो दिन बाद कर सकते हैं रक्तदान, कोरोना संक्रमित हो गए हैं तो 3 सप्ताह करें इंतजार, टीका पूरी तरह से सुरक्षित और भरोसेमंद

नई दिल्ली: अगर आपने कोरोना से बचाव का टीकाकरण कराया है तो रक्तदान कर सकते हैं। टीकाकरण के बाद किसी तरह का कोई संक्रमण नहीं होता है न रक्त देने वाले को और न रक्त लेने वाले को अगर कोरोना संक्रमित हो गए हैं तो स्वस्थ होने के तीन सप्ताह बाद यानी 21 दिन के बाद रक्तदान कर सकते हैं। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीका लगवाना आवश्यक है। यह जानकारी डॉक्टर एन.के. अरोड़ा ने बृहस्पतिवार को नोएडा में अमर उजाला फाउंडेशन और यूनिसेफ द्वारा आयोजित कार्यक्रम क्लाइमेट चेंज एंड कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यशाला में दी। उन्होंने कहा कि इस विषय को मुख्य रूप से आगे बढ़ाया जाएगा कि रक्तदान करने और टीकाकरण का आपस में कोई संबंध नहीं है। अगर कोई व्यक्ति टीकाकरण कराता है तो वह उस दो दिन बाद रक्तदान भी कर सकता है।

टीकाकरण के बाद लोग रक्तदान कर सकते हैं

बता दें टीकाकरण कराने के बाद कई बार जरूरत पड़ने पर लोग आठ से 10 दिन तक इसलिए रक्तदान नहीं करते हैं कि रक्त लेने वाले को कोई संक्रमण न हो जाए। डॉक्टर अरोड़ा ने आश्वस्त किया कि टीकाकरण के बाद लोग रक्तदान कर सकते हैं। डॉक्टर अरोड़ा भारत में कोविड-19 ग्रुप के और नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप के चेयरमैन हैं। उन्होंने बताया कि भारतीय कोरोना टीका पूरी तरह से सुरक्षित और भरोसेमंद है। विदेशी टीके के बारे में उन्होंने कहा कि अगर आप इच्छा से चाहते हैं तो टीका लगवा सकते हैं लेकिन भरोसा भारतीय टीके पर करें। डॉ. अरोड़ा ने लोगों से आह्वान किया कि कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए अगर दोनों डोज लगवा चुके हैं तो बूस्टर डोज भी अवश्य लगवाएं। उन्होंने कहा कि यह जरूरी नहीं कि अगर हम टीका लगवा चुके हैं तो कोरोना से संक्रमित नहीं होंगे लेकिन संक्रमण होने के बाद मरीज की स्थिति गंभीर नहीं होती है। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना संक्रमण धीरे-धीरे बढ़ रहा है लेकिन टीकाकरण के कारण मरीजों की स्थिति गंभीर नहीं हो रही है। जो संक्रमित हो रहे हैं, वे लोग तीन से चार दिन में स्वस्थ्य हो रहे हैं।

Admin

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.