अंकिता भंडारी हत्याकांड- सीबीआइ जांच की मांग कर रहे लोगों को पुलिस ने बैराज सीमा पर रोका, दोनों पक्षों में हुई तीखी झड़प

अंकिता भंडारी हत्याकांड- सीबीआइ जांच की मांग कर रहे लोगों को पुलिस ने बैराज सीमा पर रोका, दोनों पक्षों में हुई तीखी झड़प

ऋषिकेश: वनन्तरा रिसार्ट की महिला कर्मी की हत्या के मामले में सीबीआइ जांच की मांग कर रहे युवाओं के दल की तिरंगा यात्रा को पौड़ी जनपद की पुलिस ने बैराज सीमा पर रोक दिया। दोनों पक्षों के बीच तीखी झड़पें हुई। दो आंदोलनकारियों को हल्की चोट आई। पुलिस ने मौके से करीब 32 महिला और पुरुष आंदोलनकारियों को गिरफ्तार किया है। जिन्हें थाना लक्ष्मण झूला ले गए हैं। जिन्हें निजी मुचलके पर रिहा किया गया। मौके से पुलिस ने पूर्व विधायक शैलेंद्र सिंह रावत, एआईसीसी सदस्य जयेंद्र रमोला, स्वराज्य सेवा दल उत्तराखंड के अध्यक्ष रमेश जोशी, युवा न्याय संघर्ष समिति के संयोजक दीपक जाटव और अरविंद हटवाल को भी गिरफ्तार किया है।
वनन्तरा रिसार्ट की महिला कर्मी के गांव डोभ श्रीकोट श्रीनगर से बीते रोज बेटी को न्याय दिलाने और सीबीआइ की जांच करने की मांग को लेकर युवाओं ने तिरंगा यात्रा शुरू की थी।

चीला बैराज के पास रोका

मंगलवार की दोपहर करीब 12 बजे तिरंगा यात्रा ने जैसे ही जनपद देहरादून की सीमा ऋषिकेश को पार किया तो इन्हें जनपद पौड़ी गढ़वाल की सीमा चीला बैराज के पास बैरियर डालकर रोक दिया गया। मौके पर अपर पुलिस अधीक्षक पौड़ी शेखर सुयाल, पुलिस उपाधीक्षक श्रीनगर श्याम दत्त नौटियाल, प्रभारी निरीक्षक लक्ष्मण झूला विनोद गुसाईं भारी फोर्स के साथ या मौजूद रहे। आंदोलनकारियों का कहना था कि हम शांतिपूर्ण मार्च निकाल रहे हैं हमें इस तरह रोक कर पहाड़ की बेटी को न्याय की राह में बाधा खड़ी की जा रही है। पुलिस के अधिकारियों ने आंदोलनकारियों को काफी समझाने की कोशिश की मगर वह आगे जाने की जिद पर अड़े रहे। मौके पर मौजूद पूर्व विधायक शैलेंद्र सिंह रावत ने कहा कि पहाड़ की बेटी को न्याय देने के बजाय सरकार और पुलिस प्रशासन इसके पक्ष में खड़े युवाओं और महिलाओं का दमन करने पर उतारू है। शांति मार्च को इस तरह जबरन रोका जाना इसका प्रमाण है।

मौके पर आंदोलनकारियों की भीड़ ज्यादा होने के कारण देहरादून जनपद की ऋषिकेश सीमा एम्स ऋषिकेश के समीप तैनात ऋषिकेश के कोतवाली प्रभारी निरीक्षक रवि कुमार सैनी, एसएसआइ डीपी काला सहित अन्य पुलिस को भी मौके पर बुला लिया गया।

प्रमुख रूप से ये रहे शामिल

पुलिस ने मौके से करीब 32 महिला और पुरुष आंदोलनकारियों को गिरफ्तार किया है। जिनमें प्रमुख रूप से पूर्व विधायक शैलेंद्र सिंह रावत, स्वराज सेवा दल के अध्यक्ष रमेश जोशी, एआइसीसी सदस्य जयेंद्र रमोला, युवा न्याय संघर्ष समिति के संयोजक दीपक प्रताप जाटव, अरविंद हटवाल, मीडिया प्रभारी संजय सिलस्वाल, लक्ष्मण झूला नगर पंचायत के सभासद नवीन राणा, देवेंद्र सिंह राणा, रेनू नेगी, ममता रमोला, सरोजिनी थपलियाल, कुसुम जोशी, प्रमिला जोशी, राजेंद्र प्रसाद गैरोला, हर्ष व्यास,अंकित गुप्ता आदि शामिल है।

News Glint

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *