पांचवें स्पेशल ओलंपिक में धन सिंह रावत ने किया ऐलान, उत्तराखंड को मिलेगी राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सौगात

पांचवें स्पेशल ओलंपिक में धन सिंह रावत ने किया ऐलान, उत्तराखंड को मिलेगी राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सौगात

ऋषिकेश:-  उत्तराखंड राज्य केउच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने कहा कि देश में उत्तराखंड ऐसा पहला राज्य होगा, सबसे पहले जहां राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू की जाएगी, यह विचार उच्च शिक्षा मंत्री धनसिंह रावत ने गुरुवार को ऋषिकेश हरिद्वार राष्ट्रीय राज्य मार्ग पर स्थित ज्योति विशेष विद्यालय मेंभारत सरकार की ओर से आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान ‌देश भर में आयोजित पांचवें स्पेशल ओलंपिक महोत्सव का ‌‌ज्योति स्पेशल ‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌विधायलय में शुभारंभ करनेेेे के उपरांत उपस्थिति को संबोधित करते हुुए कहा।

कार्यक्रम का शुभारंभ उत्तराखंड के शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल और उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया। पांचवी स्पेशल ओलंपिक प्रतियोगिता के दौरान दिव्यांग बच्चों ने शारीरिक व्यायाम के साथ सेल्फी मेरी प्रतिमा किया।इस दौरान भारत के एरिया डायरेक्टर उत्तराखंड डीबीपीएस रावत ने जानकारी देते हुए बताया कि इस ओलंपिक में संपूर्ण भारत से 72000 बच्चे प्रतिभाग करेंगे । प्रतियोगिता में मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर बच्चों ने प्रतिभाग किया हैं उत्तराखंड से कुल 412 बच्चे इस प्रतियोगिता में प्रतिभाग कर रहे हैं जिसमें रामनगर से 115 बच्चे ऋषिकेश के साठ बच्चे प्रतिभाग कर रहे हैं। इस प्रतियोगिता में अनेकों खेलों का आयोजन भी किया गया है। यह प्रतियोगिता वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल की जाएगी।

इस अवसर पर राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने उपस्थिति को संबोधित करते हुए कहा कि देश में उत्तराखंड ऐसा पहला राज्य है जहां राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू की जाएगी, उन्होंने कहा कि राज्य के प्राइमरी विद्यालयों में 15 बच्चों पर एक शिक्षक और माध्यमिक विद्यालय में 30 बच्चों पर एक शिक्षक नियुक्त किए जाएंगे ,उन्होंने कहा कि राज्य की शिक्षा नीति में भी आमूलचूल परिवर्तन किए जाने की योजना सरकार द्वारा निर्धारित कर दी गई है । जहां शिक्षा का स्तर बनाए जाने के लिए राज्य सरकार ने कार्य करना प्रारंभ कर दिया। जिसके परिणाम सिंह धरातल पर दिखाई देंगे।

Admin

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.