लखनऊ में फिर पलटवार को तैयार सपा, सभी नौ सीटों पर भाजपा से सीधी लड़ाई

लखनऊ में फिर पलटवार को तैयार सपा, सभी नौ सीटों पर भाजपा से सीधी लड़ाई

2017 में लखनऊ की आठ सीटों पर भाजपा और 2012 में सात सीटों पर सपा ने जमाया था कब्जा

लखनऊ: विधानसभा चुनाव में लखनऊ जिले में इस बार विधानसभा चुनाव में समाजवादी एक बार फि र पलटवार को तैयार है। 2017 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने लखनऊ की 9 में से 8 सीटों पर कब्जा जमाया था और प्रदेश में उसकी प्रचंड बहुमत की सरकार बनी। सपा को एक सीट से संतोष करना पड़ा था। उसके पहले 2012 के विधानसभा चुनाव में लखनऊ की 9 विधानसभा सीटों में से 7 पर सपा का कब्जा हुआ था और प्रदेश में सपा की सरकार बनी थी। 2012 के विधानसभा चुनाव में लखनऊ से भाजपा को सिर्फ एक सीट लखनऊ पूर्व मिली थी, जबकि एक सीट लखनऊ कैंट कांग्रेस जीती थी।

लखनऊ जिले में कुल 9 विधानसभा सीटें हैं। शहर में पांच और ग्रामीण इलाकों में चार। ज्यादातर सीटों पर इस बार के चुनाव में भाजपा और सपा की सीधी टक्कर है। लखनऊ शहरी क्षेत्र में में लखनऊ मध्य, लखनऊ उत्तर, लखनऊ कैंट, लखनऊ पूर्वी और लखनऊ पश्चिम, मलिहाबाद विधानसभा की सीटें आती हैं। लखनऊ के शहरी क्षेत्र भाजपा के गढ़ माने जाते रहे हैं जबकि ग्रामीण इलाकों में समाजवादी पार्टी काफ ी मजबूत रही है। लेकिन 2012 के विधानसभा चुनाव के बाद से यह मिथक टूट गया। 2012 के विधानसभा चुनाव में लखनऊ की लखनऊ कैंट और लखनऊ पूर्वी सीटों को छोडकऱ सभी सीटों पर समाजवादी पार्टी ने कब्जा जमा लिया।

लखनऊ उत्तर से समाजवादी पार्टी से अभिषेक मिश्रा, लखनऊ मध्य से रविदास मेहरोत्रा, लखनऊ पश्चिम से मोहम्मद रेहान सरोजिनी नगर से शारदा प्रताप शुक्ला, मलिहाबाद से इंदल रावत, बीकेटी से गोमती यादव और मोहनलालगंज से चन्द्रा रावत चुनाव जीतने में सफ ल नहीं।2017 के विधानसभा चुनाव में बाजी पूरी तरह से पलट गई। लखनऊ की 9 विधानसभा सीटों में से 8 पर भाजपा ने कब्जा जमाया। लखनऊ मध्य से भाजपा के बृजेश पाठक, लखनऊ पश्चिम से सुरेश श्रीवास्तव, लखनऊ कैंट से रीता बहुगुणा जोशी, लखनऊ पूर्व आशुतोष टंडन, सरोजिनीनगर से स्वाति सिंह, बीकेटी से अविनाश त्रिवेदी मलिहाबाद से जयदेवी ने चुनाव जीतकर भाजपा का झंडा बुलंद किया। इस बार विधानसभा चुनाव में भाजपा, सपा, बसपा और कांग्रेस, आम आदमी पार्टी समेत कई दल चुनाव मैदान में हैं। सभी दलों ने लखनऊ पर कब्जा जमाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है।

लखनऊ में मतदान चौथे चरण में 23 फ रवरी को होगा। इस विधानसभा चुनाव में लखनऊ की सभी 9 सीटों में सपा और भाजपा की लगभग सीधी टक्कर दिख रही है। ग्रामीण इलाकों के साथ साथ शहरी सीटों पर भी समाजवादी पार्टी बीजेपी को मजबूत तक कर दे रही है। लखनऊ मध्य विधानसभा क्षेत्र से इस बार भाजपा ने अपना प्रत्याशी बदल दिया है। पिछले विधानसभा चुनाव में जीते बृजेश पाठक लखनऊ मध्य के बजाय लखनऊ कैंट से भाजपा के प्रत्याशी हैं भाजपा ने लखनऊ मध्य से व्यापारी नेता रजनीश गुप्ता को उतारा है वहीं सपा की तरफ से पूर्व मंत्री रविदास मेहरोत्रा एक बार फि र मैदान में हैं। रविदास मेहरोत्रा 2012 में लखनऊ मध्य से चुनाव जीत चुके हैं और पिछले बार कांटे की लड़ाई में भाजपा के बृजेश पाठक से हार गए थे।

लखनऊ पश्चिम में भाजपा के विधायक सुरेश श्रीवास्तव के निधन के बाद इस बार बीजेपी ने अश्विनी श्रीवास्तव को मैदान में उतारा है वहीं समाजवादी पार्टी ने लखनऊ पश्चिम से अरमान खान को मैदान में उतारा है। अरमान खान पिछला विधानसभा चुनाव बसपा के टिकट पर लखनऊ पश्चिम से लड़ चुके हैं। भाजपा ने लखनऊ की कैंट विधानसभा क्षेत्र से प्रदेश सरकार के मंत्री बृजेश पाठक को टिकट दिया है। वहीं सपा ने चारबाग क्षेत्र के लगातार तीन बार से सभासद राजीव गांधी को प्रत्याशी बनाया है। भाजपा ने लखनऊ पूर्व से प्रदेश सरकार के मंत्री आशुतोष टंडन को मैदान में उतारा है जबकि समाजवादी पार्टी ने लखनऊ पूर्व से पिछले विधानसभा चुनाव लड़ चुके अनुराग भदौरिया को टिकट दिया है। लखनऊ की उत्तर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा ने मौजूदा विधायक नीरज बोरा पर फि र भरोसा जताया हैए वहीं समाजवादी पार्टी ने लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र नेता पूजा शुक्ला को टिकट दिया है।

लखनऊ की सरोजनी नगर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा ने प्रदेश सरकार में मंत्री स्वाति सिंह का टिकट का काटते हुए ईडी से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले अधिकारी राजेश्वर सिंह को टिकट दिया है। समाजवादी पार्टी ने सरोजनी नगर से पूर्व मंत्री अभिषेक मिश्रा को प्रत्याशी बनाया है। सपा ने सरोजिनी नगर से पूर्व सांसद सुशीला सरोज को टिकट दिया है, भाजपा ने मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र से मौजूदा विधायक जय देवी को फि र से टिकट दिया है सपा ने उनके सामने युवा नेता सोनू कनौजिया को प्रत्याशी बनाया है। इसी तरह से भाजपा ने बीकेटी से मौजूदा विधायक अविनाश त्रिवेदी का टिकट काटते हुए योगेश शुक्ला को मैदान में उतारा है उनके सामने समाजवादी पार्टी ने चार बार के पूर्व विधायक गोमती यादव को फि र से टिकट दिया है।

Admin

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.