दसवीं-बारहवीं की परीक्षा में नकल करने वाले अभ्यर्थियों को तीन साल की जेल या पांच हजार रुपये जुर्माना।

दसवीं-बारहवीं की परीक्षा में नकल करने वाले अभ्यर्थियों को तीन साल की जेल या पांच हजार रुपये जुर्माना।

भोपाल: माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं-बारहवीं परीक्षा में नकल करने वाले परिक्षार्थियों को तीन साल की जेल या पांच हजार रुपए का जुर्माना हो सकता है। वहीं, परीक्षा में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के प्रवेश पत्र में गलती होने पर सुधार के लिए अंतिम मौका दिया गया है। विद्यार्थी 12 से 14 फरवरी के बीच सुधार कर सकते हैं। मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं-बारहवीं बोर्ड परीक्षा 17 फरवरी से शुरु हो रही है। बारहवीं परीक्षा में कुल 714932 परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं। हायर सेकेंडरी परीक्षा के लिए 3586 व हाईस्कूल परीक्षा के लिए 3861 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा को लेकर मंडल द्वारा जारी निर्देशों के मुताबिक बोर्ड परीक्षाओं में यदि कोई परीक्षार्थी अनुचित साधनों का प्रयोग करता है, या कोई व्यक्ति इसमें उसकी सहायता करता है तथा परीक्षार्थियों के धमकी देना या हथियार ले जाने पर भी तीन साल की सजा का प्रावधान है। अनुचित साधनों का प्रयोग करते हुए पाए जाने पर दोषी व्यक्ति को सरकारी सेवा में नहीं लिया जाएगा। क्लास में सामूहिक नकल या अन्य व्यक्ति द्वारा नकल करवाने पर सभी परीक्षार्थियों का परीक्षाफल निरस्त होगा। परीक्षा केंद्र से 100 गज की दूरी तक धारा 144 लागू रहेगी।

पांच मिनट पहले दी जाएगी उत्तर पुस्तिकाएं : मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दसवीं-बारहवीं के समय में परिवर्तन कर दिया है। अभी तक मंडल की परीक्षा सुबह साढ़े आठ बजे से साढ़े 11 बजे तक परीक्षा आयोजित करता रहा है, लेकिन अब परीक्षा सुबह दस से दोपहर एक बजे तक आयेाजित होगी। सुबह साढ़े आठ बजे तक परीक्षा केंद्र में पहुंचना अनिवार्य होगा। केंद्राध्यक्ष की अनुमति से 9.45 बजे तक प्रवेश हो सकताा है। इसके बाद केंद्राध्यक्ष भी प्रवेश नहीं दे सकते हैं। 9.5 बजे केंद्र में कापियां वितरित की जाएगी। 9.55 बजे प्रश्न पत्र का वितरण होगा। इससे प्रश्न-पत्रों के वाट्सएप पर आउट होने की संभावना नगण्य हो जाएगी। परीक्षाओं में 20 छात्रों पर एक पर्यवेक्षक नियुक्त किया जाएगा।

एक क्लास में 20 से अधिक व चालीस से कम छात्रों पर दो पर्यवेक्षक नियुक्त रहेंगे। छात्रों की चालीस से अधिक संख्या होने पर 15 परीक्षार्थियों पर एक पर्यवेक्षक रहेगा। 12 फरवरी से शुरु होगी प्रायोगिक परीक्षा : दसवीं-बारहवीं के नियमित विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षा 12 से 25 मार्च के बीच होगी। जबकि प्रायवेट विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षा आवंटित परीक्षा केंद्र पर 18 फरवरी से 20 मार्च के बीच आयोजित की जाएगी। बोर्ड परीक्षा में केलकुलेटर उपयोग अनुचित साधन की श्रेणी में माना जाएगा। साधारण केलकुलेटर, साइंटिफिक केलकुलेटर, पेजर, सेल्युलर, फोन, कंप्यूटर के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया गया है।
अनिल पुरोहित/अशफाक

Admin

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.