कांवड़ लेकर उत्तराखंड आ रहे हैं तो इन बातों का ध्यान जरूर रखें, रजिस्ट्रेशन है अनिवार्य

देहरादून: 14 जुलाई से कांवड़ यात्रा विधिवत शुरू हो गयी है। विभिन्न प्रदेशों से हरिद्वार पहुंचने वाले करोड़ों कांवड़ियों के स्वागत के लिए धर्मनगरी तैयार है। काफी संख्या में कांवड़िए हरिद्वार पहुंच भी चुके हैं। कांवड़ के साथ ही सावन महीने की भी शुरुआत हो रही है। गुरुवार रात से ट्रैफिक प्लान भी लागू कर दिया गया है। हाईवे पर भारी वाहन दिन के समय बंद कर दिए जाएंगे। कांवड़ यात्रा का समापन 26 जुलाई को होगा। डीआईजी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि 14 से 19 जुलाई तक भारी वाहन बंद रात 12 बजे से सुबह 5 बजे के बीच ही चल सकेंगे। 20 से मेला समाप्ति तक हरिद्वार, दिल्ली, हरिद्वार देहरादून हाईवे पर पूरी तरह से भारी वाहन बंद कर दिए जाएंगे। छोटे वाहनों के लिए भीड़ बढ़ते ही ट्रैफिक प्लान लागू किया जाएगा।

अगर आप कांवड़ लेकर उत्तराखंड आ रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान, रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। उत्तराखंड परिवहन विभाग राज्य में आने वाले वैन और ट्रकों के अनिवार्य पंजीकरण के बारे में एक अधिसूचना लेकर आया है। इस संबंध में विभाग ने एक आधिकारिक अधिसूचना जारी की है कि राज्य में परिवहन के उद्देश्य से आने वाले सभी प्रकार के वाहनों को मोटर वाहन अधिनियम, 1988 के प्रावधानों के तहत पंजीकृत करना होगा।

हरिद्वार पुलिस ने कांवड़ियों से पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन और अपने क्षेत्र के थाने और कोतवाली में जानकारी देने के बाद हरिद्वार आने की अपील की है। साथ ही अपने साथ आने वाले कांवड़ियों की सूची भी बनाकर लाने की अपील की है। 22 जुलाई से डाक कांवड़ियों के आने की उम्मीद है। जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय ने बताया कि यात्रा की तैयारी पूरी कर ली गई है। वी मुरुगेशन ने कांवड़ियों से रजिस्ट्रेशन कराकर हरिद्वार आने की अपील की, ताकि उनको ट्रेस करने के लिए मदद मिल सके। वहीं उन्होंने कहा कि कांवड़ यात्रा के रास्ते में पड़ रही शराब की दुकान का रास्ता बदला जाएगा। पीछे की तरफ काउंटर लगाया जाए।

News Glint

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.