रवि शास्त्री ने किया कोहली का बचाव कहा – जब भी टीम एक सीरीज हारती है लोग आलोचना करने लगते हैं

रवि शास्त्री ने किया कोहली का बचाव कहा – जब भी टीम एक सीरीज हारती है लोग आलोचना करने लगते हैं

दिल्ली: इन दिनों भारतीय क्रिकेट में बड़े बदलाव देखने को मिल रहे है । विराट कोहली ने तीनों प्रारूप की कप्तानी छोड़ दी। साथ ही टी-20 विश्व कप के बाद हेड कोच रवि शास्त्री ने भी कोच पद से इस्तीफा दे दिया। रोहित शर्मा वनडे और टी-20 के नए कप्तान बने। वहीं राहुल द्रविड़ को हेड कोच बनाया गया। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अब टेस्ट में भी नए कप्तान की तलाश कर रहा है।

देखा जाए तो विराट कोहली की कप्तानी को लेकर उन्हें लगातार ट्रोल किया जाता है। टेस्ट सीरीज में हार पर हेड कोच रवि शास्त्री ने कोहली का बचाव करते हुए कहा की जब भी टीम एक सीरीज हारती है, लोग आलोचना करने लगते हैं। कोई भी टीम सारे मैच नहीं जीत सकती। हार और जीत इस खेल का हिस्सा है। कोहली के कप्तानी छोड़ने पर शास्त्री ने कहा- यह उनका निजी फैसला है और हमें इसका सम्मान करना चाहिए। हर चीज का एक समय होता है। कई पूर्व कप्तानों ने अपने पद से इस्तीफा दिया और बल्लेबाजी पर फोकस करना चाहा था। चाहे वह सुनील गावस्कर हों या सचिन तेंदुलकर या एमएस धोनी। अब विराट का समय है।

हालांकि, पूर्व कोच रवि शास्त्री नहीं चाहते थे कि विराट कोहली टेस्ट की कप्तानी छोड़ें। उन्होंने इस बात का जिक्र रविवार को अपने बयान में भी किया था। अब उन्होंने कोहली की कप्तानी में कोई भी आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत पाने पर भी बचाव किया है। शास्त्री ने ओमान के मस्कट में खेले जा रहे लीजेंड्स क्रिकेट लीग के दौरान कहा कि सचिन तेंदुलकर जैसे महान खिलाड़ी ने भी छह विश्व कप खेले थे, तब जाकर एक में जीत मिली थी।

शास्त्री ने कहा- कई पूर्व भारतीय दिग्गज खिलाड़ी जैसे सौरवा गांगुली, अनिल कुंबले, राहुल द्रविड़ और वीवीएस लक्ष्मण कभी अपने करियर में विश्व कप नहीं जीत सके। इसका यह मतलब नहीं कि वह खराब खिलाड़ी थे। आप इस विषय पर किसी को टारगेट नहीं कर सकते। हमारे पास विश्व कप जीतने वाले सिर्फ दो कप्तान हैं- कपिल देव और एमएस धोनी। इसके साथ ही शास्त्री ने किसी खिलाड़ी पर कोई टिप्पणी करने से भी इनकार कर दिया।

यह पूछे जाने पर कि क्या कप्तानी छोड़ने के बाद कोहली के खेल में परिवर्तन आया है। शास्त्री ने कहा- मैंने दक्षिण अफ्रीका सीरीज का एक भी मैच नहीं देखा, लेकिन मुझे नहीं लगता कि इससे विराट कोहली में कुछ बदलाव आएगा। मैं टीम के साथ सात साल रहा हूं और मैं एक बात साफ करना चाहता हूं कि मैं सार्वजनिक तौर पर कुछ बोलकर विवाद नहीं खड़ा करना चाहता। मेरा जो काम था मैंने कर दिया। जिस दिन मेरा काम खत्म हुआ, उस दिन कुछ बोलना भी बंद। मैं अपने किसी भी खिलाड़ी के बारे में कुछ भी सार्वजनिक तौर पर नहीं बोलना चाहता।

शास्त्री 2014 में डायरेक्टर के तौर पर टीम इंडिया से जुड़े थे। इसके बाद 2017 में वह हेड कोच बने। शास्त्री और कोहली के रहते टीम इंडिया कोई भी आईसीसी ट्रॉफी नहीं जीत पाई। हालांकि, टीम टेस्ट में विश्व नंबर एक जरूर बनी। 2019 विश्व कप में टीम सेमीफाइनल में बाहर हो गई थी। कोहली ने टी-20 विश्व कप के बाद इस फॉर्मेट की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था। वहीं, वनडे में उन्हें कप्तानी से हटाया गया। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के बाद कोहली ने टेस्ट कप्तानी भी छोड़ दी।कोहली अपनी बैटिंग पर ध्यान लगाना चाहते हैं। शास्त्री ने कोहली और बीसीसीआई के बीच हुए विवाद पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि संवाद बहुत जरूरी है। मुझे नहीं पता दोनों के बीच क्या मामला है। मैं इस संवाद का हिस्सा नहीं था। मैं इस मामले पर दोनों से बातचीत करने से पहले कुछ भी नहीं कह सकता। इसलिए अगर मेरे पास पूरी जानकारी नहीं है, तो बेहतर है कि मैं अपना मुंह बंद रखूं। जब पूरी जानकारी मिल जाएगी, तब इस पर कुछ बोल सकूंगा।

Admin

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.