खेल मंत्री रेखा आर्या ने खेला बैडमिंटन और बढाया खिलाडियों का मनोबल

खेल मंत्री रेखा आर्या ने खेला बैडमिंटन और बढाया खिलाडियों का मनोबल

देहरादून:- खेल मंत्री रेखा आर्या आज बहुउद्देशीय क्रीडा भवन, परेड ग्राउंड, देहरादून में उत्तरांचल राज्य बैडमिंटन एसोसिएशन द्वारा आयोजित ’20 वीं उत्तराखण्ड राज्य सीनियर बैडमिंटन प्रतियोगिता’ के समापन कार्यक्रम में पंहुची। यह प्रतियोगिता 17 अगस्त से शुरू हुई थी जिसका कि आज खेल मंत्री रेखा आर्य ने समापन किया।

इस अवसर पर खेल मंत्री ने बैडमिंटन खिलाड़ियों का मनोबल बढ़ाया साथ ही मौजूद सभी खिलाड़ियों को उनके भविष्य हेतु शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि आज हमारे बच्चे खेल की विभिन्न विधाओं में सराहनीय प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदेश के खिलाड़ी आज विश्व पटल पर राज्य एवं देश का नाम रोशन कर रहे हैं।

खेल मंत्री ने कहा कि पहले लोग कहते थे कि “खेलोगे कूदोगे बनोगे खराब” और “पढोगे लिखोगे बनोगे नवाब” लेकिन अब यह धारणा बदल चुकी है अब “खेलोगे कूदोगे बनोगे नवाब” और “पढोगे लिखोगे तो भी बनोगे नवाब” कहावत कही जाती है।

खेल मंत्री ने कहा कि खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य में नई खेल नीति बनाई गई है। खिलाड़ियों की सुविधा एवं उनके हितों को ध्यान में रखते हुए समय-समय पर खेल नीति में और सुधार किये जायेंगे।साथ ही मंत्री रेखा आर्या ने कहा कि आगामी 29 अगस्त को जिस दिन राष्ट्रीय खेल दिवस मनाया जाता है उस दिन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा मुख्यमंत्री उदीयमान खिलाडी उन्नीयन योजना का शुभारंभ किया जायेगा।इस योजना के अन्तर्गत 8 से 14 वर्ष तक के लगभग चार हजार से अधिक खिलाडियों को 1500 रुपये की खेल छात्रवर्ती दी जायेगी,इस योजना से खेल विभाग द्वारा राज्य मे खेल नर्सरी तेयार की जायेगी।

उत्तराखण्ड राज्य के उदीयमान खिलाड़ियों का खेल कौशल विकसित किये जाने एवं उनकी खेल उपलब्धियों को बढ़ावा दिये जाने तथा उन्हें खेलों से जुड़े रहने एवं अधिक मनोयोग से खेलो में प्रतिभाग किये जाने तथा भविष्य के लिये खिलाड़ी तैयार किये जाने के दृष्टिगत उत्तराखण्ड राज्य के उदीयमान खिलाड़ियों को प्रति वर्ष मा0 मुख्यमंत्री उदीयमान उन्नयन योजना के अन्तर्गत खिलाड़ियों को प्रतिवर्ष आवश्यक बैट्री टेस्ट एवं उसकी दक्षता की योग्यता के आधार पर 08 वर्ष से 14 वर्ष तक की आयु के प्रति जनपद 150-150 बालक-बालिकाओं (08 से 09 वर्ष के 25-25 खिलाड़ी, 09 से 10 वर्ष के 25-25 खिलाड़ियों, 10 से 11 वर्ष के 25-25 खिलाड़ी, 11 से 12 वर्ष के 25-25 खिलाड़ी 12 से 13 वर्ष के 25-25 खिलाड़ी, 13 से 14 वर्ष के 25-25 खिलाड़ी) अर्थात् प्रतिवर्ष कुल 3900 खिलाड़ियों को रू0 1500/- प्रतिमाह खेल छात्रवृति प्रदान किये जाने की योजना है।

स्पोर्ट्स डेवेलपमेंट फंड के बारे मे खेल मंत्री ने कहा कि खेल विभाग कार्ययोजना पर काम कर रहा है।इसके बनने से हमारे विभिन्न खेलों के खिलाडियों को अपने खेल से सम्बंधित जरुरी आवश्यकताओ को पूरा करने मे मदद् मिलेगी।खेल विभाग खिलाडियों के बेहतर भविष्य के लिये हर समय प्रतिबद्ध है ताकि आने वाले समय मे हमारे खिलाडी देश और प्रदेश का नाम रोशन कर सकें।इस मौके पर खेल मंत्री ने यू.एस.बी.ए की अध्यक्ष अलकनंदा अशोक जी के साथ बैडमिंटन खेला और खिलाडियों का मनोबल भी बढाया।

इस दौरान यू.एस.बी.ए अध्यक्ष अलकनंदा अशोक, सचिव बी.एस मनकोटी, डी.के सेन,जॉइंट डायरेक्टर धर्मेंद्र प्रकाश भट्ट, हरीश जोशी, राकेश डोभाल सहित कई अन्य लोग व खिलाडी उपस्थित रहे।

News Glint

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.